NOTHING WRONG WITH HINDUTVA OR HINDUNESS – ON THE CONTRARY-By Maria Wirth

Is being a Hindu ok and is Hindutva not ok and even dangerous? Many Hindus seem wary to be associated with Hindutva, in spite of the fact that Hindutva simply means Hindu-ness or being Hindu. They tend to accept the view which mainstream media peddled for long: ‘Hindutva is intolerant and stands for the ‘communal agenda of an extreme right Hindu party that wants to force uniform Hinduism on this vast country which is fully against the true Hindu ethos.’

Is this true? The Supreme Court ruling of 1995 declares it as not true:

“Hindutva is indicative more of the way of life of the Indian people. …Considering Hindutva as hostile, inimical, or intolerant of other faiths, or as communal proceeds from an improper appreciation of its true meaning.”

From personal experience, I also came to the conclusion that it is ‘an improper appreciation of its true meaning’, when Hindutva is branded as communal and dangerous.

For many years I lived in ‘spiritual India’ without having any idea how important the terms ‘’secular’ and ’communal’ were. The people I met valued India’s great heritage. They gave me tips which texts to read, which Sants to meet, which mantras to learn, etc., and I wrote about it for German magazines. I used to think that all Indians are proud of their ancestors, who had stunningly deep insights into what is true and who left a huge legacy of precious texts unparalleled in the world.

However, when I settled in a ‘normal’ environment away from ashrams and connected with the English speaking middle class including some foreign wives, I was shocked that several of my new friends with Hindu names were ridiculing Hinduism without knowing anything about it. They had not even read the Bhagavad-Gita, but claimed that Hinduism was the most depraved of all religions and responsible for the ills India is facing. The caste system and Manusmiti were quoted as proof.

My new acquaintances had expected me to join them in denouncing ‘primitive’ Hinduism which I could not do as I knew too much, not only form reading, but also from doing sadhana. They declared that I had read the wrong books and asked me to read the right books, which would give me the ‘correct’ understanding. They obviously didn’t doubt that their own view was correct.

My neighbour, a self-declared communist, introduced me occasionally to his friends as “the local RSS pracharak”. It was half in jest, but more than half intended to be demeaning. My reaction at that time: “If this is what RSS stands for, then it must be good.”

Standing up for Hindu Dharma indicted me as belonging to the ‘Hindutva brigade’ that is shunned by political correctness. My fault was that I dared to say that Hindu Dharma is the best option for any society. I did not make a baseless claim, as Christianity and Islam do and which goes mostly unchallenged. I explained why Hindu Dharma is inclusive and not divisive, whereas Christianity and Islam divide humanity into those who supposedly have the ‘true faith’ and those who are wrong and will pay for it eternally in hell, if not already on earth.

Of course my stand is neither communal nor dangerous for India. Hindu Dharma is indeed not only inclusive, but also most beneficial for the individual and for society and needs to gain strength at the expense of Christianity and Islam, which are exclusive and therefore harmful. And yes, politicians, too, need to base their lives on Hindu Dharma if they want to be efficient in serving the society. Propagating blind belief in a strange story has no place in politics, but propagating and following Dharma is in the interest of all.

My secular friends can’t really be blamed for their faulty understanding. They were taught that Hinduism is just another religion, but inferior to the two main “only true” ones. Children usually don’t doubt what they learn. Yet Hindu Dharma is in a completely different category from the Abrahamic religions:

Hindu Dharma was never based on unreasonable dogmas and did not need blasphemy laws to keep its followers in check. It is helpful to society as it imparts wisdom and gives guidelines for an ideal life that acknowledges the invisible, conscious Essence in this visible universe. It does not strait-jacket people into an unbelievable belief system. It allows freedom of thought and many parallel streams with different ways to connect to this essence emerged which co-existed harmoniously.

Since I grew up in the Catholic Church and know the narrow mindedness that is indoctrinated into children, I wonder why Indian laws even after Independence still favour the dogmatic religions which the invaders brought with them over their ancient, benign Dharma, for example in education or in regard to places of worship. Don’t politicians see the real communal danger? Don’t they realise that both dogmatic religions cannot live peacefully with others. Both need to dominate. And both are very powerful worldwide, politically and financially. As long as they have not yet the numbers in India, they may downplay the central tenet of exclusiveness in their ideologies. But exist it does, and their numbers are frightfully and rapidly increasing.

The so-called secularists fight for the right of Christians and Muslims to assert their separate identity, which ultimately needs to engulf everyone. And what is this separate identity? It is merely an unverifiable belief that negatively impacts the mind-set. This unverifiable belief sees in Hindus not only outsiders, but outsiders that need to be looked down upon. How can educated Indians be blind to the danger and risk having in future more partitions on the basis of unsubstantiated religious beliefs, including the risk of more terrible bloodshed?

Strangely, the exclusive religions are not accused of being divisive and communal, but Hinduism is. Why? Hindus are required to see Brahman, the one Supreme, in everyone. In contrast, the followers of dogmatic religions are not required to respect those who reject their ‘true religion’. They are even allowed to hate them. The ease, with which Muslims kill unbelievers even in our times, is frightening. And strangely, even the most gruesome murder by ISIS inspired Muslims are played down by media worldwide. Yet if a Hindu kills a Muslim, media gives it huge space. Why?

Humanity needs to win over the madness that the Supreme Being loves some humans more than others, because they believe in a certain book. But how to make them see sense, and adopt the inclusive Hindu mind-set?

In recent weeks some staunch ‘secular’ Indians declared themselves suddenly as Hindus. Maybe they pave the way for others to follow. However, they seem to propagate (and portray it as a positive aspect) that for a Hindu everything goes: believe in a Supreme Being or not, be vegetarian or not, go to temples or not, follow Vedic guidelines or not. It seems to imply: be truthful or not, etc. They portray Hindu Dharma as having no fundamentals.

Yet this is clearly wrong. Hindu Dharma has fundamentals, but in contrast, they are benign and helpful.

Being Hindu means to know and value the profound insights of the Rishis and to follow their recommendations in one’s life. These insights may not be obvious to the senses, like the claim that everything, including nature, is permeated by the one consciousness (Brahman), but it can be realised as true; similarly as it is not obvious that the earth goes around the sun, but it can be proven. Being Hindu does not require blind belief.

Being Hindu also means having the welfare of all at heart, including animals and plants, because each part is intimately connected with the Whole. Especially the cow is revered and the Rishis gave good reasons why it must never be killed. (At the end there is a link to a video which would probably stop any truly human being from eating her flesh.)

Being Hindu means following one’s conscience and using one’s intelligence well. It means diving into oneself trying to connect with one’s Essence. It means trusting one’s own Self, Atman, and doing the right thing at the right time.

Being Hindu means being wise – not deluded or gullible or foolish. This wisdom about the truth of this universe and about how to live life in the best possible way was discovered and preserved in India. Yet its tenets are universal, valid for all humanity.

Isn’t it time for our interconnected world to realise this and benefit?

 

Advertisements
Posted in Uncategorized | Leave a comment

FBI wanted Rahul Gandhi, he caught redhanded on Boston airport avoids visiting USA

On September 27, 2001 Rahul Gandhi MP and his Columbian live in girl friend of Kerala backwater tourist centre fame, Juanita alias Veronique, was arrested in United States of America’s Logan airport in Boston, by the FBI. Rahul was having an Italian passport and was carrying suitcase full of dollars. Some say it was about was it $2 million. This huge dollar amount generated suspicion with the US authorities. Rahul and his girl friend was thus detained by FBI. FBI suspected that Rahul was carrying terrorist funds or drug money for laundering in US. Rahuls GF is an daugter of an Columbian Drugs dealer . What money Rahul Gandhi was carrying? Was it another Bofors type pay off? Was it Columbian drug money on behalf of his Columbian girl friend? Or was it fund for Osama Bin Laden group, as it is known that the Muslim terrorists are using Christians as front men for laundering terrorist funds as the normal banking channels are being monitored by FBI. Rahul called his mother Sonia Gandhi in India . In turn Sonia called Brijesh Mishra, the former National Security Advisor and a key aide to former prime minister Atal Behari Vajpayee at the Prime Ministers Office. Brijesh Mishra intervened on behalf of our PM Vajpayee with the US Administration for the release Rahul from FBI custody.Brijesh Mishra has strong connections with Sonia Gandhi’s Italian family through his daughter Jyotsna. Jyotsna is married to an Italian and lives in Italy . Rahul Gandhi was released only when the Indian Ambassador intervened and gave assurances to the State Department that Rahul Gandhi will be produced for any future enquiry by FBI. Not only that as a patriot, it was the duty of Brijesh Mishra to find out the reasons for the arrest and inform our CBI to take necessary further steps. Brijesh Mishra did not do any such thing. The incident clearly shows that Brajesh Mishra was working for Sonia Gandhi, that he had deep connections with US state department. In short Brijesh Mishra is a traitor. In Sep 2004 when Washington played host to Young political sons, Sachin Pilot, Milind Deora, Jitin Prasada (all Congress Party), and Manvendra Singh (a lone BJP ) followed by liquor baron who got himself elected to a the Rajya Sabha, Vijay Mallya (Janata Party) and ever smiling Rajiv Shukla of the Congress. Yet one prominent face was missing which was that of Rahul Gandhi. Rahul Gandhi didn’t go to USA with the young politicians. It was Shukla who conceived the idea of the Indo-US Parliamentary Forum to create a counterpart to the India Caucus in the US House of Representatives. Rahul Gandhi had to avoid going to the U.S. forever, because of the pending police questions he could be arrested again by FBI if he ever steps in to US.

courtesy:samaymaya

Posted in Uncategorized | Leave a comment

“Militarize Hindus and Hinduize Politics” – Veer Savarkar

AUSTRIANS BUY  70,000 SHOT GUNS
AMID FEARS OF A MASSIVE INFLUX OF MUSLIM REFUGEES

How come Hindus and their  leaders in India who are surrounded by 500 million Muslims maintain deafening silence about the danger to the existence of Hindus?

http://www.dailymail.co.uk/news/article-3291978/Shotguns-virtually-sold-Austria-citizens-rush-buy-arms-amid-fears-massive-influx-migrants-dealers-claim.html

“Militarize Hindus and Hinduize Politics” – Veer Savarkar

Muslims from Middle East are pouring in European countries in tens of thousands.  There is a fear psychosis  in the minds of European countries that their culture will be  destroyed  and their country will be taken over by radical Islamists in due course of time.  Hence they are buying  assault rifles and getting ready to handle these violent people.

On the other hand,  in Indian Sub-continent there are about 500 million Muslims  (180 millions  in Pakistan, 150 millions in Bangladesh,  and 160-170 millions in India)  whose avowed aim is to Islamize India and establish Nizam-e-Mustafa (Islamic rule).

Half a million Kashmiri Hindus have been driven from the Valley.  Seven districts in Assam and three districts in West Bengal have become a Muslim majority area.  Muslim population in Assam is about 40%, in West Bengal it is 30%, in U.P.  it is 22%, and in Kerala it is 24%.  On the other hand, Hindu population in India has come down to less than 80% and Muslim population has more than doubled and assumed an alarming proportion.

While presence of a few thousands Muslims in European countries has sent shivers down their spine, no Hindu leader has come up with a plan to protect Hindus from the impending doom and disaster to be caused by the seditious and rebellious  activities  by  half a billion Islamic  supremacists  whose forefathers  had forcibly wrested one third of India from Hindus and declared it  as an Islamic Nation.

Hindu leaders should learn a lesson or two from their History and discard the methodology which has failed us in the past .

Hence, it is incumbent on Hindus to identify  their real enemy and find  ways and means to extirpate them. 

One alternative  for the survival of Hindu Nation is  to emulate Veer  Savarkar, the great Hindu revolutionary and fearless  freedom fighter,  who had said that “Militarize Hindus and Hinduize Politics”.  Jai Hind!

Very truly yours, 

Narain Kataria
(718) 478-5735

Blog:  Narainkataria.blogspot.com

 

 

 

 

Posted in Uncategorized | Leave a comment

AKBAR WAS A GREAT DEMON महान नही शैतान था अकबर

अकबर के समय के इतिहास लेखक अहमद यादगार ने लिखा-

“बैरम खाँ ने निहत्थे और बुरी तरह घायल हिन्दू राजा हेमू के हाथ पैर बाँध दिये और उसे नौजवान शहजादे के पास ले गया और बोला, आप अपने पवित्र हाथों से इस काफिर का कत्ल कर दें और”गाज़ी”की उपाधि कुबूल करें, और शहजादे ने उसका सिर उसके अपवित्र धड़ से अलग कर दिया।” (नवम्बर, ५ AD १५५६)
(तारीख-ई-अफगान,अहमद यादगार,अनुवाद एलियट और डाउसन, खण्ड VI, पृष्ठ ६५-६६)

इस तरह अकबर ने १४ साल की आयु में ही गाज़ी (काफिरों का कातिल) होने का सम्मान पाया।

इसके बाद हेमू के कटे सिर को काबुल भिजवा दिया और धड़ को दिल्ली के दरवाजे पर टांग दिया।

अबुल फजल ने आगे लिखा – ”हेमू के पिता को जीवित ले आया गया और नासिर-उल-मलिक के सामने पेश किया गया जिसने उसे इस्लाम कबूल करने का आदेश दिया, किन्तु उस वृद्ध पुरुष ने उत्तर दिया, ”मैंने अस्सी वर्ष तक अपने ईश्वर की पूजा की है; मै अपने धर्म को कैसे त्याग सकता हूँ?
मौलाना परी मोहम्मद ने उसके उत्तर को अनसुना कर अपनी तलवार से उसका सर काट दिया।”
(अकबर नामा, अबुल फजल : एलियट और डाउसन, पृष्ठ २१)

इस विजय के तुरन्त बाद अकबर ने काफिरों के कटे हुए सिरों से एक ऊँची मीनार बनवायी।

२ सितम्बर १५७३ को भी अकबर ने अहमदाबाद में २००० दुश्मनों के सिर काटकर अब तक की सबसे ऊँची सिरों की मीनार बनवायी और अपने दादा बाबर का रिकार्ड तोड़ दिया। (मेरे पिछले लेखों में पढ़िए) यानी घर का रिकार्ड घर में ही रहा।

अकबरनामा के अनुसार ३ मार्च १५७५ को अकबर ने बंगाल विजय के दौरान इतने सैनिकों और नागरिकों की हत्या करवायी कि उससे कटे सिरों की आठ मीनारें बनायी गयीं। यह फिर से एक नया रिकार्ड था। जब वहाँ के हारे हुए शासक दाउद खान ने मरते समय पानी माँगा तो उसे जूतों में भरकर पानी पीने के लिए दिया गया।
अकबर की चित्तौड़ विजय के विषय में अबुल फजल ने
लिखा था- ”अकबर के आदेशानुसार प्रथम ८०००
राजपूत योद्धाओं को बंदी बना लिया गया, और बाद में उनका वध कर दिया गया। उनके साथ-साथ विजय के बाद प्रात:काल से दोपहर तक अन्य ४०००० किसानों का भी वध कर दिया गया जिनमें ३००० बच्चे और बूढ़े थे।”
(अकबरनामा, अबुल फजल, अनुवाद एच. बैबरिज)

चित्तौड़ की पराजय के बाद महारानी जयमाल मेतावाड़िया समेत १२००० क्षत्राणियों ने मुगलों के हरम में जाने की अपेक्षा जौहर की अग्नि में स्वयं को जलाकर भस्म कर लिया। जरा कल्पना कीजिए विशाल गड्ढों में धधकती आग और दिल दहला देने वाली चीखों-पुकार के बीच उसमें कूदती १२००० महिलाएँ ।

अपने हरम को सम्पन्न करने के लिए अकबर ने अनेकों हिन्दू राजकुमारियों के साथ जबरनठ शादियाँ की थी परन्तु कभी भी, किसी मुगल महिला को हिन्दू से शादी नहीं करने दी। केवल अकबर के शासनकाल में 38 राजपूत राजकुमारियाँ शाही खानदान में ब्याही जा चुकी थीं। १२ अकबर को, १७ शाहजादा सलीम को, छः दानियाल को, २ मुराद को और १ सलीम के पुत्र खुसरो को।

अकबर की गंदी नजर गौंडवाना की विधवा रानी दुर्गावती पर थी
”सन् १५६४ में अकबर ने अपनी हवस की शांति के लिए रानी दुर्गावती पर आक्रमण कर दिया किन्तु एक वीरतापूर्ण संघर्ष के बाद अपनी हार निश्चित देखकर रानी ने अपनी ही छाती में छुरा घोंपकर आत्म हत्या कर ली। किन्तु उसकी बहिन और पुत्रवधू को को बन्दी बना लिया गया। और अकबर ने उसे अपने हरम में ले लिया। उस समय अकबर की उम्र २२ वर्ष और रानी दुर्गावती की ४० वर्ष थी।”
(आर. सी. मजूमदार, दी मुगल ऐम्पायर, खण्ड VII)

सन् 1561 में आमेर के राजा भारमल और उनके ३ राजकुमारों को यातना दे कर उनकी पुत्री को साम्बर से अपहरण कर अपने हरम में आने को मज़बूर किया।
औरतों का झूठा सम्मान करने वाले अकबर ने सिर्फ अपनी हवस मिटाने के लिए न जाने कितनी मुस्लिम औरतों की भी अस्मत लूटी थी। इसमें मुस्लिम नारी चाँद बीबी का नाम भी है।

अकबर ने अपनी सगी बेटी आराम बेगम की पूरी जिंदगी शादी नहीं की और अंत में उस की मौत अविवाहित ही जहाँगीर के शासन काल में हुई।

सबसे मनगढ़ंत किस्सा कि अकबर ने दया करके सतीप्रथा पर रोक लगाई; जबकि इसके पीछे उसका मुख्य मकसद केवल यही था की राजवंशीय हिन्दू नारियों के पतियों को मरवाकर एवं उनको सती होने से रोककर अपने हरम में डालकर एेय्याशी करना।

राजकुमार जयमल की हत्या के पश्चात अपनी अस्मत बचाने को घोड़े पर सवार होकर सती होने जा रही उसकी पत्नी को अकबर ने रास्ते में ही पकड़ लिया।
शमशान घाट जा रहे उसके सारे सम्बन्धियों को वहीं से कारागार में सड़ने के लिए भेज दिया और राजकुमारी को अपने हरम में ठूंस दिया ।

इसी तरह पन्ना के राजकुमार को मारकर उसकी विधवा पत्नी का अपहरण कर अकबर ने अपने हरम में ले लिया।

अकबर औरतों के लिबास में मीना बाज़ार जाता था जो हर नये साल की पहली शाम को लगता था। अकबर अपने दरबारियों को अपनी स्त्रियों को वहाँ सज-धज कर भेजने का आदेश देता था। मीना बाज़ार में जो औरत अकबर को पसंद आ जाती, उसके महान फौजी उस औरत को उठा ले जाते और कामी अकबर की अय्याशी के लिए हरम में पटक देते। अकबर महान उन्हें एक रात से लेकर एक महीने तक अपनी हरम में खिदमत का मौका देते थे। जब शाही दस्ते शहर से बाहर जाते थे तो अकबर के हरम
की औरतें जानवरों की तरह महल में बंद कर दी जाती थीं।

अकबर ने अपनी अय्याशी के लिए इस्लाम का भी दुरुपयोग किया था। चूँकि सुन्नी फिरके के अनुसार एक मुस्लिम एक साथ चार से अधिक औरतें नहीं रख सकता और जब अकबर उस से अधिक औरतें रखने लगा तो काजी ने उसे रोकने की कोशिश की। इस से नाराज होकर अकबर ने उस सुन्नी काजी को हटा कर शिया काजी को रख लिया क्योंकि शिया फिरके में असीमित और अस्थायी शादियों की इजाजत है , ऐसी शादियों को अरबी में “मुतअ” कहा जाता है।

अबुल फज़ल ने अकबर के हरम को इस तरह वर्णित किया है-
“अकबर के हरम में पांच हजार औरतें थीं और ये पांच हजार औरतें उसकी ३६ पत्नियों से अलग थीं। शहंशाह के महल के पास ही एक शराबखाना बनाया गया था। वहाँ इतनी वेश्याएं इकट्ठी हो गयीं कि उनकी गिनती करनी भी मुश्किल हो गयी। अगर कोई दरबारी किसी नयी लड़की को घर ले जाना चाहे तो उसको अकबर से आज्ञा लेनी पड़ती थी। कई बार सुन्दर लड़कियों को ले जाने के लिए लोगों में झगड़ा भी हो जाता था। एक बार अकबर ने खुद कुछ वेश्याओं को बुलाया और उनसे पूछा कि उनसे सबसे पहले भोग किसने किया”।

बैरम खान जो अकबर के पिता जैसा और संरक्षक था,
उसकी हत्या करके इसने उसकी पत्नी अर्थात अपनी माता के समान स्त्री से शादी की ।

इस्लामिक शरीयत के अनुसार किसी भी मुस्लिम राज्य में रहने वाले गैर मुस्लिमों को अपनी संपत्ति और स्त्रियों को छिनने से बचाने के लिए इसकी कीमत देनी पड़ती थी जिसे जजिया कहते थे। कुछ अकबर प्रेमी कहते हैं कि अकबर ने जजिया खत्म कर दिया था। लेकिन इस बात का इतिहास में एक जगह भी उल्लेख नहीं! केवल इतना है कि यह जजिया रणथम्भौर के लिए माफ करने की शर्त रखी गयी थी।

रणथम्भौर की सन्धि में बूंदी के सरदार को शाही हरम में औरतें भेजने की “रीति” से मुक्ति देने की बात लिखी गई थी। जिससे बिल्कुल स्पष्ट हो जाता है कि अकबर ने युद्ध में हारे हुए हिन्दू सरदारों के परिवार की सर्वाधिक सुन्दर महिला को मांग लेने की एक परिपाटी बना रखी थीं और केवल बूंदी ही इस क्रूर रीति से बच पाया था।

यही कारण था की इन मुस्लिम सुल्तानों के काल में हिन्दू स्त्रियों के जौहर की आग में जलने की हजारों घटनाएँ हुईं

जवाहर लाल नेहरु ने अपनी पुस्तक ”डिस्कवरी ऑफ इण्डिया” में अकबर को ‘महान’ कहकर उसकी प्रशंसा की है। हमारे कम्युनिस्ट इतिहासकारों ने भी अकबर को एक परोपकारी उदार, दयालु और धर्मनिरपेक्ष शासक बताया है।
अकबर के दादा बाबर का वंश तैमूरलंग से था और मातृपक्ष का संबंध चंगेज खां से था। इस प्रकार अकबर की नसों में एशिया की दो प्रसिद्ध आतंकी और खूनी जातियों, तुर्क और मंगोल के रक्त का सम्मिश्रण था। जिसके खानदान के सारे पूर्वज दुनिया के सबसे बड़े जल्लाद थे और अकबर के बाद भी जहाँगीर और औरंगजेब दुनिया के सबसे बड़े दरिन्दे थे तो ये बीच में महानता की पैदाईश कैसे हो गयी।

अकबर के जीवन पर शोध करने वाले इतिहासकार विंसेट स्मिथ ने साफ़ लिखा है की अकबर एक दुष्कर्मी, घृणित एवं नृशंश हत्याकांड करने वाला क्रूर शाशक था।
विन्सेंट स्मिथ ने किताब ही यहाँ से शुरू की है कि “अकबर भारत में एक विदेशी था. उसकी नसों में एक बूँद खून भी भारतीय नहीं था । अकबर मुग़ल से ज्यादा एक तुर्क था”।

चित्तौड़ की विजय के बाद अकबर ने कुछ फतहनामें प्रसारित करवाये थे। जिससे हिन्दुओं के प्रति उसकी गहन आन्तरिक घृणा प्रकाशित हो गई थी।

उनमें से एक फतहनामा पढ़िये-
”अल्लाह की खयाति बढ़े इसके लिए हमारे कर्तव्य परायण मुजाहिदीनों ने अपवित्र काफिरों को अपनी बिजली की तरह चमकीली कड़कड़ाती तलवारों द्वारा वध कर दिया। ”हमने अपना बहुमूल्य समय और अपनी शक्ति घिज़ा (जिहाद) में ही लगा दिया है और अल्लाह के सहयोग से काफिरों के अधीन बस्तियों, किलों, शहरों को विजय कर अपने अधीन कर लिया है, कृपालु अल्लाह उन्हें त्याग दे और उन सभी का विनाश कर दे। हमने पूजा स्थलों उसकी मूर्तियों को और काफिरों के अन्य स्थानों का विध्वंस कर दिया है।”
(फतहनामा-ई-चित्तौड़ मार्च १५८६,नई दिल्ली)

महाराणा प्रताप के विरुद्ध अकबर के अभियानों के लिए
सबसे बड़ा प्रेरक तत्व था इस्लामी जिहाद की भावना जो उसके अन्दर कूट-कूटकर भरी हुई थी।

अकबर के एक दरबारी इमाम अब्दुल कादिर बदाउनी ने अपने इतिहास अभिलेख, ‘मुन्तखाव-उत-तवारीख’ में लिखा था कि १५७६ में जब शाही फौजें राणाप्रताप के खिलाफ युद्ध के लिए अग्रसर हो रहीं थीं तो मैनें (बदाउनीने) ”युद्ध अभियान में शामिल होकर हिन्दुओं के रक्त से अपनी इस्लामी दाढ़ी को भिगोंकर शाहंशाह से भेंट की अनुमति के लिए प्रार्थना की।”मेरे व्यक्तित्व और जिहाद के प्रति मेरी निष्ठा भावना से अकबर इतना प्रसन्न हुआ कि उन्होनें प्रसन्न होकर मुझे मुठ्ठी भर सोने की मुहरें दे डालीं।” (मुन्तखाब-उत-तवारीख : अब्दुल कादिर बदाउनी, खण्ड II, पृष्ठ ३८३,अनुवाद वी. स्मिथ, अकबर दी ग्रेट मुगल, पृष्ठ १०८)

बदाउनी ने हल्दी घाटी के युद्ध में एक मनोरंजक घटना के बारे में लिखा था-
”हल्दी घाटी में जब युद्ध चल रहा था और अकबर की सेना से जुड़े राजपूत, और राणा प्रताप की सेना के राजपूत जब परस्पर युद्धरत थे और उनमें कौन किस ओर है, भेद कर पाना असम्भव हो रहा था, तब मैनें शाही फौज के अपने सेना नायक से पूछा कि वह किस पर गोली चलाये ताकि शत्रु ही मरे।
तब कमाण्डर आसफ खाँ ने उत्तर दिया कि यह जरूरी नहीं कि गोली किसको लगती है क्योंकि दोनों ओर से युद्ध करने वाले काफिर हैं, गोली जिसे भी लगेगी काफिर ही मरेगा, जिससे लाभ इस्लाम को ही होगा।”
(मुन्तखान-उत-तवारीख : अब्दुल कादिर बदाउनी,
खण्ड II,अनु अकबर दी ग्रेट मुगल : वी. स्मिथ पुनः मुद्रित १९६२; हिस्ट्री एण्ड कल्चर ऑफ दी इण्डियन पीपुल, दी मुगल ऐम्पायर :आर. सी. मजूमदार, खण्ड VII, पृष्ठ १३२ तृतीय संस्करण)

जहाँगीर ने, अपनी जीवनी, ”तारीख-ई-सलीमशाही” में लिखा था कि ‘ ‘अकबर और जहाँगीर के शासन काल में पाँच से छः लाख की संख्या में हिन्दुओं का वध हुआ था।”
(तारीख-ई-सलीम शाही, अनु. प्राइस, पृष्ठ २२५-२६)

जून 1561- एटा जिले के (सकित परंगना) के 8 गावों की हिंदू जनता के विरुद्ध अकबर ने खुद एक आक्रमण का संचालन किया और परोख नाम के गाँव में मकानों में बंद करके १००० से ज़्यादा हिंदुओं को जिंदा जलवा दिया था।
कुछ इतिहासकारों के अनुसार उनके इस्लाम कबूल ना करने के कारण ही अकबर ने क्रुद्ध होकर ऐसा किया।

थानेश्वर में दो संप्रदायों कुरु और पुरी के बीच पूजा की जगह को लेकर विवाद चल रहा था. अकबर ने आदेश
दिया कि दोनों आपस में लड़ें और जीतने वाला जगह पर कब्ज़ा कर ले। उन मूर्ख लोगों ने आपस में ही अस्त्र शस्त्रों से लड़ाई शुरू कर दी। जब पुरी पक्ष जीतने लगा तो अकबर ने अपने सैनिकों को कुरु पक्ष की तरफ से लड़ने का आदेश दिया. और अंत में इसने दोनों ही तरफ के लोगों को अपने सैनिकों से मरवा डाला और फिर अकबर महान जोर से हंसा।

एक बार अकबर शाम के समय जल्दी सोकर उठ गया तो उसने देखा कि एक नौकर उसके बिस्तर के पास सो रहा है। इससे उसको इतना गुस्सा आया कि नौकर को मीनार से नीचे फिंकवा दिया।

अगस्त १६०० में अकबर की सेना ने असीरगढ़ का किला घेर लिया पर मामला बराबरी का था।विन्सेंट स्मिथ ने लिखा है कि अकबर ने एक अद्भुत तरीका सोचा। उसने किले के राजा मीरां बहादुर को संदेश भेजकर अपने सिर की कसम खाई कि उसे सुरक्षित वापस जाने देगा। जब मीरां शान्ति के नाम पर बाहर आया तो उसे अकबर के सामने सम्मान दिखाने के लिए तीन बार झुकने का आदेश दिया गया क्योंकि अकबर महान को यही पसंद था।
उसको अब पकड़ लिया गया और आज्ञा दी गयी कि अपने सेनापति को कहकर आत्मसमर्पण करवा दे। मीराँ के सेनापति ने इसे मानने से मना कर दिया और अपने लड़के को अकबर के पास यह पूछने भेजा कि उसने अपनी प्रतिज्ञा क्यों तोड़ी? अकबर ने उसके बच्चे से पूछा कि क्या तेरा पिता आत्मसमर्पण के लिए तैयार है? तब बालक ने कहा कि चाहे राजा को मार ही क्यों न डाला जाए उसका पिता समर्पण नहीं करेगा। यह सुनकर अकबर महान ने उस बालक को मार डालने का आदेश दिया। यह घटना अकबर की मृत्यु से पांच साल पहले की ही है।

हिन्दुस्तानी मुसलमानों को यह कह कर बेवकूफ बनाया जाता है कि अकबर ने इस्लाम की अच्छाइयों को पेश किया. असलियत यह है कि कुरआन के खिलाफ जाकर ३६ शादियाँ करना, शराब पीना, नशा करना, दूसरों से अपने आगे सजदा करवाना आदि इस्लाम के लिए हराम है और इसीलिए इसके नाम की मस्जिद भी हराम है।
अकबर स्वयं पैगम्बर बनना चाहता था इसलिए उसने अपना नया धर्म “दीन-ए-इलाही – ﺩﯾﻦ ﺍﻟﻬﯽ ” चलाया। जिसका एकमात्र उद्देश्य खुद की बड़ाई करवाना था। यहाँ तक कि मुसलमानों के कलमें में यह शब्द “अकबर खलीफतुल्लाह – ﺍﻛﺒﺮ ﺧﻠﻴﻔﺔ ﺍﻟﻠﻪ ” भी जुड़वा दिया था।
उसने लोगों को आदेश दिए कि आपस में अस्सलाम वालैकुम नहीं बल्कि “अल्लाह ओ अकबर” कहकर एक दूसरे का अभिवादन किया जाए। यही नहीं अकबर ने हिन्दुओं को गुमराह करने के लिए एक फर्जी उपनिषद् “अल्लोपनिषद” बनवाया था जिसमें अरबी और संस्कृत मिश्रित भाषा में मुहम्मद को अल्लाह का रसूल और अकबर को खलीफा बताया गया था। इस फर्जी उपनिषद् का उल्लेख महर्षि दयानंद ने सत्यार्थ प्रकाश में किया है।

उसके चाटुकारों ने इस धूर्तता को भी उसकी उदारता की तरह पेश किया। जबकि वास्तविकता ये है कि उस धर्म को मानने वाले अकबरनामा में लिखित कुल १८ लोगों में से केवल एक हिन्दू बीरबल था।

अकबर ने अपने को रूहानी ताकतों से भरपूर साबित करने के लिए कितने ही झूठ बोले। जैसे कि उसके पैरों की धुलाई करने से निकले गंदे पानी में अद्भुत ताकत है जो रोगों का इलाज कर सकता है। अकबर के पैरों का पानी लेने के लिए लोगों की भीड़ लगवाई जाती थी। उसके दरबारियों को तो इसलिए अकबर के नापाक पैर का चरणामृत पीना पड़ता था ताकि वह नाराज न हो जाए।
अकबर ने एक आदमी को केवल इसी काम पर रखा था कि वह उनको जहर दे सके जो लोग उसे पसंद नहीं।

अकबर महान ने न केवल कम भरोसेमंद लोगों का कतल
कराया बल्कि उनका भी कराया जो उसके भरोसे के आदमी थे जैसे- बैरम खान (अकबर का गुरु जिसे मारकर अकबर ने उसकी बीवी से निकाह कर लिया), जमन, असफ खान (इसका वित्त मंत्री), शाह मंसूर, मानसिंह, कामरान का बेटा, शेख अब्दुरनबी, मुइजुल मुल्क, हाजी इब्राहिम और बाकी सब जो इसे नापसंद थे। पूरी सूची स्मिथ की किताब में दी हुई है।

अकबर के चाटुकारों ने राजा विक्रमादित्य के दरबार की कहानियों के आधार पर उसके दरबार और नौ रत्नों की कहानी गढ़ी। पर असलियत यह है कि अकबर अपने
सब दरबारियों को मूर्ख समझता था। उसने स्वयं कहा था कि वह अल्लाह का शुक्रगुजार है कि उसको योग्य दरबारी नहीं मिले वरना लोग सोचते कि अकबर का राज उसके दरबारी चलाते हैं वह खुद नहीं।

अकबरनामा के एक उल्लेख से स्पष्ट हो जाता है कि उसके हिन्दू दरबारियों का प्रायः अपमान हुआ करता था। ग्वालियर में जन्में संगीत सम्राट रामतनु पाण्डेय उर्फ तानसेन की तारीफ करते-करते मुस्लिम दरबारी उसके मुँह में चबाया हुआ पान ठूँस देते थे। भगवन्त दास और दसवंत ने सम्भवत: इसी लिए आत्महत्या कर ली थी।

प्रसिद्ध नवरत्न टोडरमल अकबर की लूट का हिसाब करता था। इसका काम था जजिया न देने वालों की औरतों को हरम का रास्ता दिखाना। वफादार होने के बावजूद अकबर ने एक दिन क्रुद्ध होकर उसकी पूजा की मूर्तियाँ तुड़वा दी।
जिन्दगी भर अकबर की गुलामी करने के बाद टोडरमल ने अपने जीवन के आखिरी समय में अपनी गलती मान कर दरबार से इस्तीफा दे दिया और अपने पापों का प्रायश्चित करने के लिए प्राण त्यागने की इच्छा से वाराणसी होते हुए हरिद्वार चला गया और वहीं मरा।

लेखक और नवरत्न अबुल फजल को स्मिथ ने अकबर का अव्वल दर्जे का निर्लज्ज चाटुकार बताया। बाद में जहाँगीर ने इसे मार डाला।

फैजी नामक रत्न असल में एक साधारण सा कवि था जिसकी कलम अपने शहंशाह को प्रसन्न करने के लिए ही चलती थी।

बीरबल शर्मनाक तरीके से एक लड़ाई में मारा गया। बीरबल अकबर के किस्से असल में मन बहलाव की बातें हैं जिनका वास्तविकता से कोई सम्बन्ध नहीं। ध्यान रहे
कि ऐसी कहानियाँ दक्षिण भारत में तेनालीराम के नाम से
भी प्रचलित हैं।

एक और रत्न शाह मंसूर दूसरे रत्न अबुल फजल के हाथों अकबर के आदेश पर मार डाला गया ।

मान सिंह जो देश में पैदा हुआ सबसे नीच गद्दार था, ने अपनी बेटी तो अकबर को दी ही जागीर के लालच में कई और राजपूत राजकुमारियों को तुर्क हरम में पहुँचाया। बाद में जहांगीर ने इसी मान सिंह की पोती को भी अपने हरम में खींच लिया।

मानसिंह ने पूरे राजपूताने के गौरव को कलंकित किया था। यहाँ तक कि उसे अपना आवास आगरा में बनाना पड़ा क्योंकि वो राजस्थान में मुँह दिखाने के लायक नहीं था। यही मानसिंह जब संत तुलसीदास से मिलने गया तो अकबर ने इस पर गद्दारी का संदेह कर दूध में जहर देकर मरवा डाला और इसके पिता भगवान दास ने लज्जित होकर आत्महत्या कर ली।

इन नवरत्नों को अपनी बीवियां, लडकियां, बहनें तो अकबर की खिदमत में भेजनी पड़ती ही थीं ताकि बादशाह सलामत उनको भी सलामत रखें, और साथ ही अकबर महान के पैरों पर डाला गया पानी भी इनको पीना पड़ता था जैसा कि ऊपर बताया गया है। अकबर शराब और अफीम का इतना शौक़ीन था, कि अधिकतर समय नशे में धुत रहता था।

अकबर के दो बच्चे नशाखोरी की आदत के चलते अल्लाह को प्यारे हो गये।

हमारे फिल्मकार अकबर को सुन्दर और रोबीला दिखाने के लिए रितिक रोशन जैसे अभिनेताओं को फिल्मों में पेश करते हैं परन्तु विन्सेंट स्मिथ अकबर के बारे में लिखते हैं-
“अकबर एक औसत दर्जे की लम्बाई का था। उसके बाएं पैर में लंगड़ापन था। उसका सिर अपने दायें कंधे की तरफ झुका रहता था। उसकी नाक छोटी थी जिसकी हड्डी बाहर को निकली हुई थी। उसके नाक के नथुने ऐसे दिखते थे जैसे वो गुस्से में हो। आधे मटर के दाने के बराबर एक मस्सा उसके होंठ और नथुनों को मिलाता था।

अकबर का दरबारी लिखता है कि अकबर ने इतनी ज्यादा पीनी शुरू कर दी थी कि वह मेहमानों से बात
करता करता भी नींद में गिर पड़ता था। वह जब ज्यादा पी लेता था तो आपे से बाहर हो जाता था और पागलों जैसी हरकतें करने लगता।

अकबर महान के खुद के पुत्र जहाँगीर ने लिखा है कि अकबर कुछ भी लिखना पढ़ना नहीं जानता था पर यह दिखाता था कि वह बड़ा भारी विद्वान है।

अकबर ने एक ईसाई पुजारी को एक रूसी गुलाम का पूरा परिवार भेंट में दिया। इससे पता चलता है कि अकबर गुलाम रखता था और उन्हें वस्तु की तरह भेंट में दिया और लिया करता था।

कंधार में एक बार अकबर ने बहुत से लोगों को गुलाम बनाया क्योंकि उन्होंने १५८१-८२ में इसकी किसी नीति का विरोध किया था। बाद में इन गुलामों को मंडी में बेच कर घोड़े खरीदे गए ।

अकबर बहुत नए तरीकों से गुलाम बनाता था। उसके आदमी किसी भी घोड़े के सिर पर एक फूल रख देते थे। फिर बादशाह की आज्ञा से उस घोड़े के मालिक के सामने दो विकल्प रखे जाते थे, या तो वह अपने घोड़े को भूल जाये, या अकबर की वित्तीय गुलामी क़ुबूल करे।

जब अकबर मरा था तो उसके पास दो करोड़ से ज्यादा अशर्फियाँ केवल आगरे के किले में थीं। इसी तरह के और
खजाने छह और जगह पर भी थे। इसके बावजूद भी उसने १५९५-१५९९ की भयानक भुखमरी के समय एक सिक्का भी देश की सहायता में खर्च नहीं किया।

अकबर के सभी धर्म के सम्मान करने का सबसे बड़ा सबूत-
अकबर ने गंगा,यमुना,सरस्वती के संगम का तीर्थनगर “प्रयागराज” जो एक काफिर नाम था को बदलकर इलाहाबाद रख दिया था। वहाँ गंगा के तटों पर रहने वाली सारी आबादी का क़त्ल करवा दिया और सब इमारतें गिरा दीं क्योंकि जब उसने इस शहर को जीता तो वहाँ की हिन्दू जनता ने उसका इस्तकबाल नहीं किया। यही कारण है कि प्रयागराज के तटों पर कोई पुरानी इमारत नहीं है। अकबर ने हिन्दू राजाओं द्वारा निर्मित संगम प्रयाग के किनारे के सारे घाट तुड़वा डाले थे। आज भी वो सारे साक्ष्य वहाँ मौजूद हैं।

२८ फरवरी १५८० को गोवा से एक पुर्तगाली मिशन अकबर के पास पंहुचा और उसे बाइबल भेंट की जिसे इसने बिना खोले ही वापस कर दिया।

4 अगस्त १५८२ को इस्लाम को अस्वीकार करने के कारण सूरत के २ ईसाई युवकों को अकबर ने अपने हाथों से क़त्ल किया था जबकि इसाईयों ने इन दोनों युवकों को छोड़ने के लिए १००० सोने के सिक्कों का सौदा किया था। लेकिन उसने क़त्ल ज्यादा सही समझा । सन् 1582 में बीस मासूम बच्चों पर भाषा परीक्षण किया और ऐसे घर में रखा जहाँ किसी भी प्रकार की आवाज़ न जाए और उन मासूम बच्चों की ज़िंदगी बर्बाद कर दी वो गूंगे होकर मर गये । यही परीक्षण दोबारा 1589 में बारह बच्चों पर किया ।

सन् 1567 में नगर कोट को जीत कर कांगड़ा देवी मंदिर की मूर्ति को खण्डित की और लूट लिया फिर गायों की हत्या कर के गौ रक्त को जूतों में भरकर मंदिर की प्राचीरों पर छाप लगाई ।

जैन संत हरिविजय के समय सन् 1583-85 को जजिया कर और गौ हत्या पर पाबंदी लगाने की झूठी घोषणा की जिस पर कभी अमल नहीं हुआ।

एक अंग्रेज रूडोल्फ ने अकबर की घोर निंदा की।
कर्नल टोड लिखते हैं कि अकबर ने एकलिंग की मूर्ति तोड़ डाली और उस स्थान पर नमाज पढ़ी।

1587 में जनता का धन लूटने और अपने खिलाफ हो रहे विरोधों को ख़त्म करने के लिए अकबर ने एक आदेश पारित किया कि जो भी उससे मिलना चाहेगा उसको अपनी उम्र के बराबर मुद्राएँ उसको भेंट में देनी पड़ेगी।

जीवन भर इससे युद्ध करने वाले महान महाराणा प्रताप जी से अंत में इसने खुद ही हार मान ली थी यही कारण है कि अकबर के बार बार निवेदन करने पर भी जीवन भर जहाँगीर केवल ये बहाना करके महाराणा प्रताप के पुत्र अमर सिंह से युद्ध करने नहीं गया की उसके पास हथियारों और सैनिकों की कमी है..जबकि असलियत ये थी की उसको अपने बाप का बुरा हश्र याद था।

विन्सेंट स्मिथ के अनुसार अकबर ने मुजफ्फर शाह को हाथी से कुचलवाया। हमजबान की जबान ही कटवा डाली। मसूद हुसैन मिर्ज़ा की आँखें सीकर बंद कर दी गयीं। उसके 300 साथी उसके सामने लाये गए और उनके चेहरों पर अजीबोगरीब तरीकों से गधों, भेड़ों और कुत्तों की खालें डाल कर काट डाला गया।

मुग़ल आक्रमणकारी थे यह सिद्ध हो चुका है। मुगल दरबार तुर्क एवं ईरानी शक्ल ले चुका था। कभी भारतीय न बन सका। भारतीय राजाओं ने लगातार संघर्ष कर मुगल साम्राज्य को कभी स्थिर नहीं होने दिया।

courtesy: https://pparihar.com

Posted in Uncategorized | Leave a comment

NOT EVEN A SINGLE MUSLIM VOTED FOR BJP IN UP

There Is No Evidence That A Single Muslim Voted For The BJP In UP

Claims to the contrary aren’t backed by data.

HINDUSTAN TIMES VIA GETTY IMAGES

A lot has been said about Muslim support for the BJP in Uttar Pradesh given the scale of its victory, but none of this is borne out by the numbers. What can we say about how Muslims voted?

1. There is no evidence that Muslims voted for the BJP.

Despite political statements and some stories in the media, there is just no evidence for this. There is not a single constituency where the BJP’s voteshare exceeds that of the Hindu population of that constituency.

Sahibabad is the only constituency where it’s close–the winning BJP candidate, Sunil Kumar Sharma, won 61% of the votes in the constituency, while the share of Hindu population in the constituency is between 60 and 65%. Data on voteshares and the Hindu and Muslim population come from Datanet India, which compiled the data from the Election Commission of India and the Census of India respectively.

In that constituency, the Congress and BSP candidates between them got 36% of the votes; the Muslim population of that constituency is between 35 and 40%.

2. BJP candidates winning from a large number of seats with a significant Muslim population does not mean that Muslims voted for the BJP.

In a first-past-the-post system, candidates typically need between 30-35% of the voteshare in a constituency to win. In this election, BJP candidates did particularly well; the median voteshare of winning BJP candidates was a whopping 43.64%.

 Yet what most forget is that even in UP, there are few Muslim-majority constituencies. There are only seven constituencies in UP with more than 50% Muslims (meaning that a party can win the state without a single Muslim vote)–and the Samajwadi Party won all of these. The BJP’s winning streak essentially begins when the Muslim population goes below 45%.

3. Strategic voting failed

Of 82 constituencies with more than 30% Muslims, the BJP won 62. But it appears that the Muslim vote was split between the SP and the BSP–in 60 of these constituencies, their combined voteshare was higher than that of the Muslim population. Given that in a majority of these constituencies both or one of the SP/ INC and BSP had a Muslim candidate, it is very likely that the Muslim vote got split between the SP and the BSP.

So rather than strategically voting to keep the BJP out, it could be argued that UP’s Muslims actually failed at strategic voting.
read more at http://www.huffingtonpost.in/2017/03/14/there-is-no-evidence-that-a-single-muslim-voted-for-the-bjp-in-u/
Posted in Uncategorized | Leave a comment

WHAT HINDUISM IS LACKING

There seems to be some “defect” in Hinduism, because worldwide, it is clearly not as respected as Christianity and Islam. Hindus struggle to get a fair representation for Hinduism in the media or in textbooks whether abroad or even at home.

This is hard to understand, because Hinduism has the best philosophical basis of all and is in tune with modern nuclear science. It acknowledges that the essence in all is consciousness (spirit) and shows practical ways how to realize this one spirit as true. It is therefore even in tune with the ever growing tribe in the west who say “I am spiritual, not religious”.

When India was ruled by Christians and Muslims, it was understandable that those in power promoted their religion as the best and denigrated the ‘primitive native religion’. But today, when there is an open market of ideas, why is Hinduism still getting a rough and very unfair deal when it actually deserved the highest respect, and how can this be changed?

One fine morning I realized what Hinduism is “lacking” and how this could be rectified. Hinduism would finally be on the same footing as Christianity and Islam.

It is simple.

The ancient rishis had left out only one important sentence after passing on their insights. This one sentence obviously makes all the difference whether a religion is respected, powerful and keeps gaining followers or whether it is demeaned, ridiculed and loses followers.

This sentence is:

If you don’t believe what we tell you, the supreme Divinity will throw you for all eternity into hellfire.

Let’s imagine Maharishi Vyasa, after compiling the Vedas, had added this sentence: “Whoever does not believe in the Vedas as the only truth, will be thrown for all eternity into hellfire by Brahman himself.”

Or after writing the Mahabharata, if he had added “Whosoever does not believe that Sri Krishna is the only true mediator between man and Brahman, will burn eternally in hell”.

Or if Valmiki, after writing down the teaching of Guru Vashishta to Prince Rama, had added that Vashishta alone is the true guru and whoever does not believe it will end up in hell.

Or even today, if Mata Amritanandamayi for example, who has several miracles to her credit and an unparalleled outflow of love, would claim that she is the only indigenous daughter of god and who does not believe it, will be thrown into hellfire forever…

If this had happened, Hinduism would not be the underdog. It would be on the same level with the respected religions. In fact, the newcomer religions probably had little chance to come up, because Hinduism was there ages before them and it could have easily declared those newcomers as inexcusable heretics that need to be put to death.

In fact, not all is lost. Since the Bible and the Quran were written down after Jesus and Mohamed had died and several earlier versions were discarded, maybe Hindus still could amend their sacred texts?

In case it is not clear, of course I am not serious.

But it struck me one morning that the respect for dogmatic religions is based on irrationality and how easily it could be corrected if Hindus would chose to be as irrational and if they would back up –this is an important ingredient – their irrationality with blasphemy laws. Hindus could take part in the one-upmanship of “only we are right” and threaten those who dare to dissent with death.

Actually, it is not so much irrationality but cunningness, because those who made those claims of eternal hell for outsiders in all likelihood did not believe it themselves. It could not possibly have come from Divine inspiration but is driven by worldly power.

The rishis in contrast were truthful. They were not cunning or irrational, and Indians – all Indians – can be proud of them.

But pride is not enough. Present day Indians need to take care that this irrationality does not eat into their society because it will lead to its downfall. It is not difficult to find examples for such societies.

Dharma finds expression through people who stand up for it and if necessary fight for it. Adharmic forces need to be called out and challenged.

It seems, on this world stage, a Mahabharata war is always on, in all ages. Yet ultimately, at a higher level beyond the dichotomy of good and evil, all are absorbed in the one eternal Brahman from whom all has originated.

There won’t be a huge cauldron of fire where billions of human beings will burn for all eternity. This claim by both Christianity and Islam does not deserve respect. It deserves ridicule.

By Maria Wirth

Posted in Uncategorized | Leave a comment

THE TRUE HINDU GREATNESS-Koenraad Elst

Hindus make bold to be the inheritors of a great and exceptional civilization. And they are.Indeed, a wider recognition of this ancestral greatness would solve a number of contemporary problems Hinduism faces.

Separatism, the phenomenon that Hindu sects declare that they are non-Hindu and back-project that they never have been Hindus, is largely due to the bad reputation of Hinduism. Nobody wants to stay on a sinking ship (especially not the rats, the true nature of most defectors). Hinduism is slandered as “caste, wholly caste and nothing but caste”, and when at all it is admitted to be something else on top, it must be widow self-immolation, child marriage, dowry murders, nowadays the rapes that make headlines, and other human rights violations.

Hindus make bold to be the inheritors of a great and exceptional civilization.

Moreover, it is seen as superstitious, incoherent, flaky, and worst of all, weak. Hinduism has an intensely bad image, and that is why the Jains, Buddhists, Lingayats, Sikhs, Arya Samajis, Ramakrishna Mission and others insist that they are not Hindus, while another category of malcontents defect by converting to Christianity or Islam.

The Hindu territory has constantly been shrinking for more than a thousand years: Kabul, most of Southeast Asia, Pakistan, Bangladesh, de facto also Kashmir and parts of the Northeast, these have all been lost. But the conceptual domain of “Hindu” has also been shrinking. Originally, Muslim invaders introduced the term as meaning: all Indian Pagans (non-Abrahamics), whether Buddhists, Jains, tribals, low-castes, high-castes, and by implication also younger sects like Virashaivism, Sikhism, the Arya Samaj or the Ramakrishna Mission.

The insistence by many castes that they are “not Hindus” stems from two circumstances: the very negative reputation of Hinduism, contrasting with its fair name in de 19th century; and the fogginess around the definition of “Hinduism”, only aggravated in recent decades by a deliberate manipulation of the word’s meaning.

After sketching some details of this phenomenon, we proceed to show that a correct assessment of the basic texts and the history of Hinduism would largely remedy both the bad name of Hinduism and the shifting sands of the term’s meaning. It may sometimes be diplomatically wise to speak of “Buddhists and Hindus” or “Hindus and Sikhs”, but the scholarly fact to be clearly realized and kept in mind is that the sect founders Shakyamuni Buddha and Guru Nanak never meant to break away from Hinduism, anymore than Shankara did when he founded his Dashanami monastic order, Hindu par excellence.

arahant

Yet, Hindu civilization has everything to make its scions proud. If this greatness were highlighted rather than its real and imagined shortcomings, the defecting sects would eagerly come back. Those Sikhs who militated for Khalistan only yesterday, will turn around and shout: “Sikhs are Hindus”, or rather: “We Sikhs are more Hindu than you!”

Consider for instance the Vedic seers. Mind you, historically, “Hindu” is every Indian Pagan, i.e. every non-Christian and non-Muslim Indian. This implies that it includes many more people and more traditions than the strictly Vedic lineage, to which a certain hostile discourse tries to narrow “Hinduism” down. But even this much-maligned Vedic lineage has given the world enough to make all Hindus proud.

First of all, we have their praiseworthy choice of what things notto do.  The Vedic seers did not invent fairy-tales about their tradition being eternal and God-given. Whereas the Quran and the Biblical Ten Commandments are in the form of God addressing man, the Vedic hymns are more truthfully in the form of men addressing the gods.

I am aware that some Hindus try to understand the Vedas as a kind of Quran, eternal and revealed. They like to crawl under the heavy weight of scriptures ascribed to a divine author, showing the lack of self-understanding common in this age of degeneracy of Hinduism.

Fortunately, the Vedic seers knew better: they walked upright and composed those scriptures themselves. The Vedas were not created by a superhuman source and then memorized by dumb and uncreative human beings; they were created by skilful and understanding human beings, the ancestors of contemporary Hindu civilization.

vedic

And then there are the things they did do. First of all, they created great poetry using elaborate metaphors, crafty verse forms and a unique system of memorization. Hindu society set apart a class whose job it was to memorize and pass on the tradition, genealogies and literature.

Vedic recitations today are deemed, even by hostile Indologists, as undeniably a kind of tape-recording of the original recitation thousands of years ago. It is this class of reciters that nowadays comes in for the harshest criticism. All the separatist sects invariably flaunt an anti-Brahmin hate discourse.

They thereby prove they don’t value the transmission of knowledge. In their rants that “the Brahmins monopolized knowledge”, they seem not to care about the “knowledge” part, nor do they busy themselves with acquiring or transmitting this knowledge.

To be sure, inertia and the psychological effect of being honoured by society caused some pride and smugness among the less meritorious members of the Brahmin class, a human phenomenon known in societies the world over. But the merits of this class, and especially of the society that set it apart, are unique.

Next, consider the insights captured in the literature they transmitted. Many great ideas that were to come in full bloom in later philosophies of India, East Asia, and more recently the West, already existed in germ in the Vedic hymns thousands of years ago.

Originally, Muslim invaders introduced the term as meaning: all Indian Pagans (non-Abrahamics), whether Buddhists, Jains, tribals, low-castes, high-castes, and by implication also younger sects like Virashaivism, Sikhism, the Arya Samaj or the Ramakrishna Mission

.

Thus, the correspondence between microcosmos and macrocosmos, between man and universe; the identity of man with the intelligence of the sun (so’ham); or the vibratory nature of reality (aum), still central also in Buddhism (om namo amituo fuom mani padme hum) and in Sikhism (omkar), are already themes in Vedic poetry.

Such elementary concepts as the division of the year in 12 and 360, and such profundities as the monistic unity underlying the plurality of gods, or the distinction between the ordinary self acting and the real Self merely observing, are all present in a single Vedic hymn – ideas to which entire schools of philosophy are mere commentaries.

Later, the doctrine of the Self was explicitated by seers like Yajnavalkya, who is up there with Plato as an ideas man next to whom a whole philosophical tradition is but a series of footnotes. Even the Buddhist no-Self doctrine, which spread around Asia, can only be comprehended by presupposing the concept of the Self.

asia

The seers’ pluralistic outlook is not equally exceptional, at least not when compared with Chinese or ancient Greek worldviews,– but nowadays the majority of mankind is in thrall to two religions (the Religion of Love and the Religion of Peace) that believe in suppressing pluralism and claiming the sole truth for themselves.

Against their narrow-minded exclusivism, the Hindu tradition offers the solution. Inside and outside the Vedas, almost everywhere in India, we find a religiosity that makes no truth claims about God. The devotional rituals practised in all temples, before sacred trees or in sacred groves, simply express awe for the sacred, the most fundamental and universal layer of all religions.

Secularists advocate superficiality and philosophical illiteracy, which is now having its effects on India’s population. A rediscovery of the real treasures of Hindu tradition will gladden the hearts of all those who can call themselves its inheritors. Say with pride: we are Hindus!

(Published in Prabodhan, the book edited by Prof. Saradindu Mukherji and made public at the World Hindu Congress, Delhi, 21-23 November 2014)

Posted in Uncategorized | Leave a comment