Tag Archives: Bahadur Shah II

दो गज़ जमीं भी न मिली कुहे यार में !!!THE AWFUL END STORY OF LAST MUGHAL EMPEROR BAHADUR SHAH ZAFAR-Satyamitra

लगता नहीं है दिल मेरा उजड़े दयार में किसकी बनी है आलम-ए-ना-पायदार में कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दागदार में उम्र-ए-दराज़ माँग के लाए थे चार दिन दो आरजू में कट गए, … Continue reading

Posted in Uncategorized | Tagged , , , , , , , | Leave a comment